राजस्थान बोर्ड परीक्षाएं अगले माह से, 32 लाख परीक्षार्थी होंगे शामिल

अजमेर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सचिव श्रीमती मेघना चौधरी ने कहा है कि बोर्ड की परीक्षाओं से राज्य के 32 लाख परीक्षार्थियों का भविष्य और प्रदेश के 1 करोड़ अभिभावकों की भावनाएं जुड़ी हैं। इसलिए यह परीक्षा आयोजन संवेदनशील है। इसमें छोटी सी चूक लाखों विद्यार्थियों के भविष्य को प्रभावित करती हैं। राजस्थान बोर्ड 32 लाख परीक्षार्थियों के परीक्षा आयोजन के इस चुनौतीपूर्ण कार्य को अगले माह करने जा रहा है। यह परीक्षा विद्यार्थियों की नहीं अपितु बोर्ड और शिक्षा विभाग की भी है और शिक्षा विभाग इसे ‘‘मिशन परीक्षा’’ के रूप में लें। राजस्थान बोर्ड की परीक्षाओं की राष्ट्रव्यापी ख्याति है और प्रदेश के शिक्षकों का दायित्व है कि श्रेष्ठ बोर्डों में गिना जाने वाला राजस्थान बोर्ड देश का श्रेष्ठतम बोर्ड बने।
उल्लेखनीय है कि बोर्ड की 7 मार्च से प्रारम्भ होने वाली सीनियर सैकण्डरी और 14 मार्च से प्रारम्भ होने वाली सैकण्डरी परीक्षाओं में 20 लाख 14 हजार 886 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे। आठवीं बोर्ड की पात्रता परीक्षा में 12 लाख से भी अधिक परीक्षार्थी पंजीकृत किये गये है।
श्रीमती चौधरी राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के राजीव गांधी भवन में बोर्ड की आगामी माह होने वाली बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन के संबंध में राज्य के माध्यमिक शिक्षा विभाग के समस्त शिक्षा संयुक्त निदेशकों, जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक) और सन्दर्भ व्यक्तियों की बैठक को सम्बोधित कर रही थीं।उन्होंने कहा कि शिक्षा अधिकारियों की महती जिम्मेदारी है कि वे प्रश्न-पत्रों की सुरक्षा को सर्वोच्च महत्व दे। प्रश्न-पत्रों को सुरक्षित रखना, उन्हें सुरक्षात्मक रूप से परीक्षा केन्द्र तक पहुंचना और उनका परीक्षार्थियों को वितरण भलीभांति हो। उन्होंने कहा कि शिक्षा अधिकारी प्रत्येक बोर्ड परीक्षा केन्द्रों को संवेदनशील मानकर चले। उड़नदस्तों में निष्पक्ष और योग्य व्यक्तियों को लगाया जाये। परीक्षा में संवेदनशीलता को लेकर कहीं कोई कमी नजर आये तो प्रशासन को सूचित करें। उन्होंने उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन करने वाले शिक्षकों का भी आह्वान किया कि विद्यार्थियों के भविष्य को दृष्टिगत रखते हुए मेहनत और गहनतापूर्वक उत्तरपुस्तिकायें जांचे। सूचना के अधिकार वाले इस युग में विद्यार्थी अपनी उत्तरपुस्तिका की छायाप्रति प्राप्त कर उसमें रही त्रुटि को जब समाज के सामने उजागर करेगा तो समूचे शिक्षक वर्ग की गरिमा को ठेस पहुँचेगी, ऐसी स्थिति से बचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *