भरतपुर: विश्वेंद्र सिंह से विवाद के बाद अब आईजी मालिनी अग्रवाल ने सम्भाला मतगणना का कार्य

भरतपुर, जिले में मतगणना का कार्य अब आईजी मालिनी अग्रवाल की देखरेख में होगा। विधायक विश्वेंद्र सिंह से विवाद के बाद एसपी केसरसिंह शेखावत को सात दिन की छुट्‌टी पर भेज दिया गया है। इससे पहले एमएसजे कॉलेज के स्ट्रांग रूम में ईवीएम मशीन बदलने जाने की आशंका और सुरक्षा व्यवस्था में कमी को लेकर कांग्रेस प्रत्याशी और समर्थकों का पुलिस के साथ विवाद हुआ था। अन्य लोगों की मौजूदगी में एसपी केशर सिंह शेखावत से हुए विवाद का असर रविवार को भी दिखाई दिया जहां हालात तनावपूर्ण हो गये।

वहीं हजारों की संख्या में विश्वेन्द्र सिंह समर्थक एवं उनके कार्यकर्ता सुबह से ही मोती महल में एकत्रित हो गये। विधायक विश्वेन्द्र सिंह ने एसपी पर शराब के नशे में अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया है। साथ ही एसपी द्वारा उन्हें ठण्डा करने व शूट एण्ड साईट करने की बात कही गई है। कांग्रेस प्रत्याशी विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि अगर हम स्ट्रांग रूम नहीं जाते तो मशीनों में गड़बड़ी हो सकती थी लेकिन अब सब सुरक्षित है।

इसके बाद विश्वेन्द्र सिंह आईजी आफिस गये जहां वकील के माध्यम से एफआईआर एसपी के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज करने को कहा गया। वहीं पुलिस लाइन निरीक्षक की ओर से भी कांग्रेस उम्मीदवारों के खिलाफ मथुरा गेट थाना में मामला दर्ज कराया है। राज्य के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक बीएल सोनी ने बताया कि इस मामले में विधायक एवं डीग कुम्हेर विधानसभा के कांग्रेस उम्मीदवार विश्वेन्द्रसिंह द्वारा जो आरोप लगाये हैं उनकी निष्पक्ष जांच कराई जायेगी और एसपी केशरसिंह शेखावत को छुटटी भेज दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *