छात्राओं को निःशुल्क साईकिल वितरण से शिक्षण के लिए अतिरिक्त समय मिलेगा

भरतपुर। पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि छात्राओं को निःशुल्क साईकिल वितरण से आवागमन में सुविधा के साथ ही शिक्षण के लिए भी अतिरिक्त समय मिलेगा। सिंह भरतपुर के कुम्हेर स्थित स्व. रामजीलाल स्वर्णकार राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में आयोजित निःशुल्क साईकिल वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित जनसमुदाय एवं छात्रा-छात्राओं को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि निःशुल्क साईकिल वितरण योजना के माध्यम से छात्राओं का शिक्षा के प्रति रूझान बढ़ेगा जिससे राज्य में महिला साक्षरता के प्रतिशत में भी गुणात्मक वृद्धि होगी। उन्होंने कहा कि शिक्षा किसी जाति एवं धर्म के बंधन में बंधी नहीं है जो कड़ी मेहनत करता है वही सफलता प्राप्त करता है। उन्होंने शिक्षकों का आहृवान किया कि वे राज्य सरकार की मंशा एवं सुविधाओं के अनुरूप विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान कर देश को सुशिक्षित भावी नागरिक बनायें जिससे देश विकसित देशों की श्रेणी में आ सके।
उन्होंने विद्यार्थियों को आहृवान किया कि वे निष्ठा एवं कड़ी मेहनत से शिक्षा ग्रहण कर उच्च सेवाओं में अपना स्थान बनाकर जिला, राज्य एवं देश का नाम रोशन करें। उन्होंने अधिकारियो एवं कार्मिकों से कहा कि वे उत्तरदायी एवं जवाबदेही के साथ अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करें। उन्होंने अधिकारियों को यह भी कहा कि वे लक्ष्य के अनुरूप ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण कर राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को व्यवस्थित रूप से लागू कर वंचित पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित करायें। उन्होंने कहा कि अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि आपसी समन्वय एवं सहयोग से कार्य करें जिससे जिले में और अधिक विकास कार्य कराये जा सकें। उन्होंने जिले की ज्वलंत समस्याओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उनकी प्राथमिकता के रूप में चम्बल पेयजल परियोजना के माध्यम से जिलेवासियों को शुद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण पेयजल उपलब्ध कराना है जिसके तहत कुम्हेर एवं डीग कस्बों तक पेयजल उपलब्ध हो चुका है शीघ्र ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी पेयजल की समस्या दूर होगी।
उन्होंने कहा कि दूसरी प्राथमिकता के तहत जिले के कृषकों को विभिन्न माध्यमों के द्वारा सिंचाई जल उपलब्ध कराना है जिसके तहत राज्य सरकार की पहल के माध्यम से जिले को शीघ्र ही यमुना जल समझौते के तहत आवंटित जल हिस्सा दिलाया जायेगा तथा तीसरी प्राथमिकता के रूप में जिले के बेरोजगार युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रदुषण मुक्त उद्योग लगाये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं जिनमें जिले के 90 प्रतिशत कामगारों की भागीदारी रहेगी जिसके शीघ्र ही सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। उन्होंने जिलेवासियों से कहा कि वे भी जिले में ऎसा वातावरण तैयार करें जिससे उद्यमी अपने उद्योग यहां स्थापित करें। इस अवसर पर संबंधित अधिकारियों ने भी विचार व्यक्त किये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *