काॅन्स्टेबल प्रशिक्षण की दीक्षान्त परेड: 244 महिला काॅन्स्टेबल पास आउट

जोधपुर। प्रदेश के महानिदेशक पुलिस ओ.पी. गल्होत्रा के मुख्य आतिथ्य में शुक्रवार को महिला काॅन्स्टेबलों की दीक्षान्त परेड आरपीटीसी जोधपुर के सुलतान सिंह स्टेडियम में आयोजित की गयी। दीक्षान्त परेड में विभिन्न जिलों एवं राजस्थान सशस्त्र दल की विभिन्न बटालियनों की आरपीटीसी एवं पीटीएस जोधपुर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही आरएसी की 26 एवं पुलिस की 218 महिला प्रशिक्षणार्थी पास-आउट हुई हैं।
महानिदेशक पुलिस गल्होत्रा ने अपने उद्बोधन में पुलिस विभाग के प्रत्येक कार्मिक को समाज के कमजोर वर्ग विशेषकर महिलाओं, बच्चों एवं वृद्धजनों के प्रति सहिष्णुता बनाए रखने की आवश्यकता प्रतिपादित की। उन्होनें कहा कि वर्तमान परिदृश्य में आतंकवाद व राष्ट्रविराधी गतिविधियों व संगठित अपराधों का सामना करने के लिए पुलिस जवानों को उच्च कोटि का प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस एवं अनुशासन एक दूसरे के पूरक है एवं एक पुलिसकर्मी के जीवन में न्यायप्रियता,संवेदनशीलता, मानवीय दृष्टिकोण, धैर्य, बहादुरी एवं कानून की हिफाजत आदि अत्यन्त महत्वपूर्ण है।


उन्होंने राजस्थान पुलिस का ध्येय वाक्य ‘‘आमजन में विश्वास एवं अपराधियों मे डर‘‘ को अपने सम्पूर्ण सेवाकाल में याद रखने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मी की एक ही जाति होती है और वह उसकी वर्दी है। उन्होंने कहा कि जाति, धर्म का भेदभाव किये बगैर केवल खाकी को ही अपना धर्म और जाति मानकर ही आमजन में पुलिस के प्रति विष्वास उत्पन्न किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि पुलिस विभाग में पदोन्नति की व्यवस्था में बदलाव होने जा रहा है एवं नई व्यवस्था में 5-7 वर्ष की नौकरी में ही मेरिट के आधार पर अग्रिम पद पर पदोन्नति प्रदान की सकती है। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग में नियुक्त महिलाएं गृहणी बनकर अपना परिवार सम्भालने के साथ ही पुलिसकर्मी के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन कर समाज में दोहरी जिम्मेदारी निभाती है।


गल्होत्रा ने परेड का निरीक्षण किया। परेड कमाण्डर 14वीं बटालियन आरएसी भरतपुर की काॅन्स्टेबल श्रीमति रूकमणी के नेतृत्व में 8 प्लाटूनों ने सलामी मंच के सामने से गुजरते हुए मुख्य अतिथि को सलामी दी। मुख्य अतिथि ने बैच सं. 72 से खैरवाडा की जीनत खान को आॅल राउण्ड प्रथम, 14वीं आर.ए.सी की रूकमणी को आउटडोर प्रथम, विमला यादव को इण्डोर प्रथम एवं सन्तरा देवी को फायरिंग में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर पुरस्कार प्रदान किया।
उन्होनें बैच सं. 73 से आयुक्तालय जयपुर की सुमन यादव को आॅलराउण्ड एवं आउटडोर में प्रथम, नाथी चैधरी को इण्डोर में प्रथम एवं बुद्धी को फायरिंग में प्रथम का मेडल एवं प्रषस्ति पत्र प्रदान किया। पीटीएस जोधपुर के बैच सं0 33 से डूगंरपुर की संगीता पटेल को आॅल राउण्ड प्रथम, उदयपुर की राजकंवर झाला को आउटडोर प्रथम, कलावती देवडा को इण्डोर प्रथम तथा बीकानेर की राधा कुलरिया को फायरिंग में प्रथम रहने पर मेडल एवं प्रषस्ति पत्र प्रदान किया गया।
आर.पी.टी.सी. जोधपुर के प्रधानाचार्य डाॅ. विष्णु कान्त ने वार्षिक प्रतिवेदन पेष किया तथा प्रषिक्षणार्थियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने बताया कि आरपीटीसी में बैसिक प्रषिक्षण में कई विषेष कोर्स जैसे पोस्ट-ब्लास्ट इनवेस्टिगेषन कोर्स, साईबर क्राईम एण्ड मोबाईल फोरेन्सिक कोर्स तथा वीआईपी सुरक्षा इत्यादी कोर्स भी शामिल किये गये हैं।
दीक्षान्त परेड के अवसर पर महानिरीक्षक सीमा सुरक्षा बल, सीमान्त मुख्यालय अनिल पालीवाल, एस.टी.सी. बीएसएफ जोधपुर के महानिरीक्षक कुलदीप सैनी, पुलिस कमिश्नर जोधपुर अशोक राठौड़, पुलिस अधीक्षक जीआरपी जोधपुर ललित माहेश्वरी तथा प्रदेश के पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों के संस्था प्रधान सहित नव आरक्षकों के परिजन भी उपस्थित थे। अन्त में कमाण्डेन्ट, पीटीएस, जोधपुर कैलाश सिंह नें आभार प्रकट किया। दीक्षान्त परेड समारोह के समापन उपरान्त गल्होत्रा ने नव आरक्षकों से मुलाकात की। उन्होंने आरपीटीसी परिसर में नवनिर्मित मल्टीपरपज हाॅल का उद्घाटन भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *