‘आपका विश्वास, हमारा प्रयास, इतिहास रचेगा राजस्थान’- मुख्यमंत्री

डूंगरपुर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा है कि अब राजस्थान इतिहास रचने की तैयारी में है। यह इतिहास जनता के विश्वास और हमारे प्रयासों से नए राजस्थान की रचना के साथ बनेगा क्योंकि सरकार ने हर निर्णय में जनता को शामिल किया है और उनकी अपेक्षाओं पर खरी उतरी हैं।  श्रीमती राजे सोमवार को डूंगरपुर जिले के धम्बोला में जनसमूह को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंनेे कहा कि राज्य सरकार ने साढे चार साल में दिन में 18-18 घंटे कार्य कर राजस्थान को यहां तक पहंंुचाया है। जो भी कार्य किए हैं, वो जनता से पूछकर, उनकी राय और अपेक्षाओं को निर्णयों में शामिल कर किए है।
श्रीमती राजे ने घोषणा की कि क्षेत्र के चिखली-आनन्दपुरी सड़क पर संगमेश्वर में लगभग सौ करोड़ की लागत से हाई लेवल ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है। यह ब्रिज बनने के बाद क्षेत्र में पर्यटन का बडा आकर्षण केन्द्र एवं क्षेत्र का गौरव साबित होगा। आदिवासी क्षेत्र में बनने वाले इस सेतु को देखने के लिए लोग परिवार सहित यहां पहंंुचेेंगे और सेल्फी खिंचाएंगे जैसे आज कोटा का हैंगिंग ब्रिज देखने पहुंचते हैं। ऎसा ब्रिज बॉम्बे या विदेशों में ही दिखाई देता है।  मुख्यमंत्री ने गोविन्द गुरू सेतु रखे जाने की घोषणा की। उन्होने कहा कि सरकार ने वर्षों से क्षेत्र की जनता की लम्बित मांग को पूरा करते हुए चिखली और झोतरी को पंचायत समिति बना दिया है।श्रीमती राजे ने जनसमूह को प्रदेश और क्षेत्र में बिजली, पेयजल, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं आदिवासी कल्याण एवं महिला सशक्तीकरण से जुड़ी विभिन्न योजनाओं के जरिए अब तक किए गए विकास कार्यों की जानकारी दी।
आदिवासी क्षेत्र के 39 ब्लॉक्स में बनेंगे गोविन्द गुरू सामुदायिक केन्द्र भवन
मुख्यमंंत्री ने कहा कि 9 अगस्त को टीएसपी एवं सहरिया क्षेत्र में विश्व आदिवासी कल्याण दिवस पहली बार धूम धाम और जोरशोर से मनाया जाएगा, जिसमें दिनभर विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं एवं आदिवासी खेलों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने जिला कलक्टर को इस दिन स्थानीय अवकाश घोषित करने के भी निर्देश दिए। इस दिन के आयोजन में जिला स्तर पर जनजातीय प्रतिभाओं का सम्मान किया जाएगा एवं छात्रावास के बच्चों के लिए खेलकूद की प्रतियोगिताओं, वाद विवाद, नृत्य, रस्साकशी, चित्रकला प्रतियोगिता का आयोेजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मुख्य समारोह प्रतापगढ में आयोजित किया जाएगा। श्रीमती राजे ने कहा कि आदिवासी क्षेत्र के 39 ब्लॉक्स में गोविन्द गुरू के नाम से सामुदायिक भवनों का निर्माण भी किया जाएगा।
मेवाड़ भील कोर का गठन
मुख्यमंत्री कहा कि सरकार ने मेवाड़ भील कोर के गठन की घोषणा की थी। इस पर अमल करते हुए 623 पदों पर भर्ती जारी है। महाराणा प्रताप बटालियन की तरह ही मेवाड़ भील कोर बटालियन का गठन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 21 करोड रु की लागत से भीखाभाई कैनाल-11 को 2019 तक पूरा करा दिया जाएगा।
बीपीएल को 50 यूनिट निःशुल्क बिजली
श्रीमती राजे ने कहा कि सरकार ने 1 अगस्त को आदेश जारी किए हैं जिससे टीएसपी क्षेत्र के सभी बीपीएल परिवारों को 50 यूनिट तक की बिजली निःशुल्क मिलेगी तथा 1 अप्रेल से मांगते ही कृषि कनेक्शन उपलब्ध कराए जा रहे हैं।
145 करोड़ के कार्याें का लोकार्पण एव शिलान्यास
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर मंच से 145 करोड़ रु के कार्याें का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने चौरासी विधानसभा क्षेत्र में 2 करोड़ 60 लाख की लागत से बने सरथुना कन्या छात्रावास, 17 करोड़  की लागत से बने वारन्दा लघु सिंचाई योजना व 2 करोड़ 85 लाख की लागत से बने देवगांव एनिकट का उद्घाटन किया। उन्होंने 99 करोड़ 17 लाख रु की लागत से बनने वाले चिखली में माही नदी पर हाई लेवल ब्रिज,  4 करोड़ 49 लाख लागत के कालूसेडा एनिकट,  3 करोड़ 50 लाख लागत के झौंथरी कन्या छात्रावास का शिलान्यास किया। उन्होंने 2 करोड़ लागत के पंचकुण्डी एनिकट, 4 करोड़ 74 लाख लागत के पीठ-सीमलवाड़ा पेयजल पुर्नगठन योजना, 9 करोड़ की लागत से बनने वाले आईटीआई भवन का भी शिलान्यास किया।
86 हजार शिक्षकों की भर्ती
श्रीमती राजे ने कहा कि राज्य में शिक्षकों की कमी नहीं रहेगी। चार माह में राज्य में 86 हजार शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी जाएगी। राजस्थान आज शिक्षा के मामले में 26 से दूसरे पायदान पर आ गया है और इसे आने वाले समय में प्रथम स्थान पर लेकर आएंगे।
लाभार्थियों से संवाद
श्रीमती राजे जनसभा के बाद क्षेत्र के लोगों से मुलाकात करने उनके बीच गईं और लोगों से रूबरू बात की। उन्होंने इस मौके पर ऋण माफी प्रमाणपत्र, छात्राओं को स्कूटी, राजश्री योजना से लाभान्वित को चैक प्रमाणपत्र, पात्र महिलाओं को उज्जवला गैस कनेक्शन  वितरित किए एवं लाभार्थियों से संवाद भी किया। मुख्यमंत्री ने पाण्डाल स्थल पर आदिवासी समाज के साधु संतों का शॉल ओढाकर एवं श्रीफल भेंट कर सम्मान किया एवं आशीर्वाद लिया। इस मौके पर आदिवासी लोक भजन गायकाें ने प्रस्तुति दी।
विकास प्रदर्शनी को सराहा
मुख्यमंत्री ने सभा स्थल पर लगाई गई क्षेत्र की विकास प्रदर्शनी का अवलोकन किया एवं बनने वाले हाईलेवल ब्रिज के मॉडल को देखा। श्रीमती राजे ने विकास प्रदर्शनी की प्रशंसा करते हुए इसे एक अच्छा प्रयास बताया।
 हरीश डामोर को मंच पर बुलाया
श्रीमती राजे ने सम्बोधन के दौरान विभिन्न योजनाओं का लाभ प्राप्त करने वाले आदिवासी युवक हरीश डामोर को मंच पर बुलाया और उनके पिता का हालचाल पूछा। हरीश के पिता का भामाशाह स्वाथ्य बीमा योजना के अन्तर्गत 70 हजार रूपए के व्यय से एक नामचीन अस्पताल में निःशुल्क इलाज हुआ है। दवाएं भी निःशुल्क मिली हैं। इसी प्रकार हरीश को प्रधानमंत्री आवास योजना में आवास, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में 2 रु किलो गेहूं, महानरेगा में सौ दिवस रोजगार, स्वच्छ भारत मिशन में शौचालय निर्माण जैसे लाभ भी मिले हैं।
जगह-जगह स्वागत, माल्यार्पण
मुख्यमंत्री ने डूंगरपुर के उदय विलास से ग्राम पंचायत बोरी, कलाल गढा, काकरादरा, महुडी, गैंजी, पाड़ली गुजरेश्वर, झोथरी, करावाड़ा होते हुए धम्बोला की आमसभा में पहुंची। रास्ते में जगह-जगह जन समूह ने उनका स्वागत किया एवं मुख्यमंत्री ने उनसे संवाद कर उनके ग्राम में किए गए विकास कायोर्ं की सरपंच से जानकारी लेकर समीक्षा की। उन्होंने लोगों की समस्याओं पर समाधान के निर्देश भी दिए। श्रीमती राजे ने रास्ते में भण्डारिया गोशाला में गायों को गुण एवं चारा खिलाया। उन्हाेंने गोशाला संचालकों का उत्साह बढाते हुए कहा कि आप अच्छा काम कर रहे हैं आपको इस पुण्य कार्य का फल जरूर मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *