शिक्षामंत्री डोटासरा ने बदला भाजपा सरकार का फैसला: वेलेंटाइन डे पर स्कूलों में नहीं होगा मातृ-पितृ पूजन,

जयपुर। वेलेंटाइन डे पर 14 फरवरी को सरकारी स्कूलों में मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाए जाने को लेकर भाजपा और कांग्रेस आमने सामने हो गए हैं। कांग्रेस सरकार ने इस दिन मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाने के भाजपा सरकार के निर्णय को बदल दिया। इसके बाद भाजपा कांग्रेस सरकार पर आक्रामक हो गई है। भाजपा ने इसको लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस सरकार पाश्चात्य संस्कृति को बढ़ावा देने वाले काम कर रही है। जबकि कांग्रेस ने इसको भाजपा की नौटंकी करार देते हुए कहा कि बच्चों को एक दिन नहीं पूरे साल माता-पिता का पूजन करना चाहिए। गौरतलब है कि पिछले साल 6 मार्च को तत्कालीन शिक्षामंत्री वासुदेव देवनानी ने विधानसभा में 14 फरवरी को मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाने की घोषणा की थी। सबसे पहले वर्ष-2017 में छत्तीसगढ़ सरकार ने 14 फरवरी को यह दिवस मनाने का एलान किया था। इसी की तर्ज पर राजस्थान में भी घोषणा की गई थी। शिविरा पंचांग में भी इसको शामिल कर लिया गया था।
कांग्रेस सरकार द्वारा फैसला बदलने पर वासुदेव देवनानी का निशाना साधते हुए कहा कि ईश्वर इनको सदबुद्धि दे – पूर्व शिक्षामंत्री वासुदेव देवनानी ने मातृ-पितृ पूजन दिवस के निर्णय को पलटने पर डोटासरा पर निशाना साधा। देवनानी ने कहा कि ईश्वर इनको सदबुद्धि दे कि वे अच्छे संस्कार, देशभक्ति के भाव और माता-पिता के प्रति श्रद्धा के भाव को लेकर राजनीति नहीं करे।
कांग्रेस सरकार के निर्णय से लगता है कि यह सरकार पाश्चात्य संस्कृति को अच्छा मानती है। हमने इस दिन मातृ-पितृ दिवस मनाने का निर्णय अभिभावक और शिक्षकों से बात करके लिया था। इसके पीछे उद्देश्य था कि बच्चे इस दिन पाश्चात्य संस्कृति नहीं अपनाकर भारतीय संस्कृति को अपनाते हुए अपने माता-पिता के प्रति श्रद्धा के भाव रखते हुए उनकी पूजा करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *